हद तो तब हुई

शीशे में
उतरना क्या हुआ
कहने लगे वो कि
निखर गई


शहर का मौसम
खुशगवार क्या हुआ 
नजरों में दिखा
उनको कि
मचल गई

हद तो तब हुई
शाख से टूटकर
एक पत्ता
गिरा जब
वो समझे कि  
बिखर गई !!

7 comments:

  1. सच हद ही हुई ..बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  3. क्या कहने,
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. क्या बात है शाख से टूटकर ऐक पत्ता गिरा जब

    ReplyDelete
  5. स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. उम्दा सोच
    भावमय करते शब्‍दों के साथ गजब का लेखन ...आभार ।

    ReplyDelete