आग में जलना आसान होता है

पता नही कुछ औरतें किन किन काल खंडो के दुखो को
वे एक साथ सहन करती रहती है
और बावजूद इन दुखो के
वे किसी भी नशा के शिकार नही होती
वे अपनी यातना मे
थोडा मुस्कुरा ले और थोडा सज-संवर जाये तो
यकिन मानिये उनके कुछ रिश्तेदारो को
पक्कातौर पर यह लगता है
कि इनका दु:ख आडम्बर है
इसे तो इतना सुख-चैन है कि
यह तो हंसती भी है और लिप्सटिक भी लगाती है
ये पका अपनो को गलत साबित करना चाहती है!

आग मे जल जाना आसान होता है
आग के ताप के पास बैठना
बडा ही मुश्किल होता है बाबा

कुछ औरतें जो यकिननतौर पर
अल्प संख्यक होती है और इसलिये कि
उनका दु:ख अन्य कुछ औरतो से बिल्कुल भिन्न होता है
उन्हें इन यातनाओ के चक्रव्यूह तोडने नही आता
गर तोडने की कोशिश भी करे तो
डायन करार कर दी जाती है
या समाज से निकाली जाती है
क्योंकि उनकी चाहत
उन तमाम दु:खो से मुक्त होना होता है

आज भी ऐसे नजरियां वाले लोग है
जो अल्पसंख्यक औरतो को उनके दु:खों के साथ
पर्दे के पीछे रखने के जबरदस्त हिमायती है 
वे बेहद पढे लिखे लोग है या घरो के सर्वेसर्वा
या समाज के रखवाले है या मुखिया देश का
कोई भी हो सकता है !

No comments:

Post a Comment