सरकार की सल्तनत में

आरजूओं को
रात में ढल जाने दो
सुबह की इन्तजार में
ताकि
कुछ शब्द जलते रहे
और कुछ शब्द बाकी रहे !

चमन हो और
ख्वाब भी हकीकत हो
यह मुमकीन नही
रात की विरानगी में
जुगनूओ का डेरा रहे
ताकि
चांद कुछ बाकी रहे !

ऐसी उम्मीद कि
लाठी मिले
मुफ़लिसी को
ताकि
उनकी आंख खुलती रहे
और सरकार की सल्तनत में
अल्पसंख्यकों की नींद सलामत रहे !

5 comments:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति !
    मेरे ब्लॉग पे आपका स्वागत है !

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब ... सरकार की सल्तनत भी तो बरकार तभी तक है ...

    ReplyDelete
  3. Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
    self Publishing india

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना ......
    मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन की प्रतीक्षा है |

    http://hindikavitamanch.blogspot.in/
    http://kahaniyadilse.blogspot.in/

    ReplyDelete