एक नाम तेरा

चांद तारों की बात
चांदनी में हो तो अच्छा लगता है 
सुनहरे ख्वाबों की बात
चमन में हो तो अच्छा लगता है 
नींद की बात पर
रात सुहानी लगती है 
पर क्या करे
दस्तूरे-मोहबत में
बन्धन,बडी रेशमी लगता है 
दहकते सूरज पर
एक नाम तेरा है 
जो जिन्दगी के बाद का सबेरा लगता है !

6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (27-02-2019) को "बैरी के घर में किया सेनाओं ने वार" (चर्चा अंक-3260) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत ख़ूब
    सादर

    ReplyDelete
  3. अपनी रचनाओं को पुस्तक के रूप में प्रकाशित करायें स्पेशल स्वयं प्रकाशन योजना के साथ।
    अधिक जानकारी के लिए विजिट करें - https://www.prachidigital.in/special-offers/

    हमारा उद्देश्य : लेखक के बज़ट में उच्च क्वालिटी की पुस्तकों का प्रकाशन एवं उच्चतम रॉयल्टी प्रतिशत (Highest Royalty Percentage)।

    ReplyDelete
  4. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन राष्ट्रीय विज्ञान दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
  5. सीधे दिल से की गयी भावुक मन की अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    ReplyDelete