एक उम्मीद रही तलाश को

वे मगरूर हुये जाते है
कि
चाँद उनके मुठ्ठी में है

उन्हें नहीं पता कि
झील में कैद चाँद
चांदनी को तरसता है
चाहत की प्यास में
झील सूखता जाता है

उम्र सागर की
चाँद तक रही
पर
धरती पर चाँद
कब आता जाता है

उससे ना मिलना
एक बेबसी है
उनको अब ये बात
नागवार सी गुजरी है

उसकी एक तलाश में
भटकते रहे
दर-ब-दर
तलाश फिर भी तलाश रही

यकीन
कुछ यूं ना था कि
वह मिल जायेगा ऐसे
जिसकी प्यास में
पूरी जिन्दगी गुज़री !!

8 comments:

  1. कभी ऐसा भी होता जिसकी तलाश में जिंदगी गुज़र जाती है वह एक पल में मिल जाता है...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  2. भावात्मक अभिव्यक्ति ह्रदय को छू गयी आभार झुलसाई ज़िन्दगी ही तेजाब फैंककर ,. .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MANजाने संविधान में कैसे है संपत्ति का अधिकार-1

    ReplyDelete
  3. जीवन खत्म हो जाता है कभी कभी तलाश में ... पर मिल नहीं पाटा मरीचिका सा वो ...
    गहरे भाव ...

    ReplyDelete
  4. लाजवाब ! सुन्दर पोस्ट लिखी आपने | पढ़ने पर आनंद की अनुभूति हुई | आभार |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete