बाज़ार की नज़र में

आसमान के नीचे की दुनिया सिमट गई थी
छ्तो की चौड़ाई बढती रही 
और परिंदों के परों पर उड़ान भारी था

पत्थरों से टकराते रहे
सम्वेदी तंतुयें 
प्यास बढ़ती रही और
पंख झड़ते रहे

बाजार की नजर में
दुनिया बिल्कुल गोल थी
और आदम जात एक वस्तु !!

6 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आतिशबाजी का नहीं, ये पावन त्यौहार।।
    लक्ष्मी और गणेश के, साथ शारदा होय।
    उनका दुनिया में कभी, बाल न बाँका होय।
    --
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ
    (¯*•๑۩۞۩:♥♥ :|| दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें || ♥♥ :۩۞۩๑•*¯)
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete
  2. bahut sundar ... diwali parv par hardik badhai ...

    ReplyDelete
  3. पत्थरों से टकराते रहे
    सम्वेदी तंतुयें
    प्यास बढ़ती रही और
    पंख झड़ते रहे

    संवेदनशील बात

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने


    पत्थरों से टकराते रहे
    सम्वेदी तंतुयें
    प्यास बढ़ती रही और
    पंख झड़ते रहे


    दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. शुक्रिया और आभार,आप सबको दीपावली की ढ़ेर सारी शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  6. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .बहुत अद्भुत अहसास.सुन्दर प्रस्तुति.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये आपको और आपके समस्त पारिवारिक जनो को !

    मंगलमय हो आपको दीपो का त्यौहार
    जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार
    ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार
    लक्ष्मी की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार..

    ReplyDelete