चल कही और चले

गमों से पार चले
ए हवा
चल कही और चले

उल्झी सांसो की
गुंथियों की जाल से
पार चले
ए हवा
चल कही और चले

बंजर भुमि की कोख में
लगी आग से
कही पार चले
ए हवा
चल कही और चले

निकल चली है
कई रस्मो-रवायते ऐसी की
शुल जिगर के पार चले
ए हवा
चल कही और चले 

मुद्दतो से वे छींटते रहे है 
बारुद यहाँ वहाँ
फटने से पार चले
ए हवा
चल  कही और चले

हमने भी इक बनाई है
रौशन चमन जहाँ में
ए हवा
चल उसी के आस-पास चले !!

8 comments:

  1. हमें स्वयं बनानी है वह रौशन दुनिया...
    पावन भाव!

    ReplyDelete
  2. सुंदर भावों का सयोजन बहुत ही सुन्दर कविता पढ़कर आनन्द आ गया. आभार.

    ReplyDelete
  3. ए मेरे दिल कहीं और चल ग़म की दुनिया से दिल भर गया.... समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://aapki-pasand.blogspot.com/2011/12/blog-post_13.html

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  5. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल आज 15 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... सपनों से है प्यार मुझे . .

    ReplyDelete
  6. सुन्दर भावों को लिए बढ़िया अभिव्यक्ति

    Gyan Darpan
    .

    ReplyDelete